[Rs 1,000] यूपी प्रवासी मजदूर कोरोना सहायता योजना

UP Pravasi Majdur Sahayata Yojana | Uttar Pradesh Migrant Labor Home Return Scheme | UP Majdur Corona Sahayata Yojana | उत्तर प्रदेश प्रवासी मजदूर घरवापसी योजना 1000 रु

UP Pravasi Majdur Sahayata Yojana, Uttar Pradesh Pravasi Majdur Sahayata Yojana, Uttar Pradesh Migrant Labor Home Return Scheme, योगी आदित्यनाथ श्रमिक भरण-पोषण योजना, उत्तर प्रदेश प्रवासी मजदूर घर वापसी योजना

UP-Pravasi-Majdur-Sahayata-Yojana-In-Hindi
UP-Pravasi-Majdur-Sahayata-Yojana-In-Hindi

UP Pravasi Majdur Sahayata Yojana – उत्तर प्रदेश सरकार अपने राज्य के प्रवासी मजदूरों को 15 दिन का खाना पीना और 1000 रुपए की आर्थिक सहायता देने जा रही है। दूसरे राज्यों में फसें 15 लाख मजदूरों को मिलेगा इस योजना का फायदा, साथ ही सरकार ने निर्णय लिया है की वह प्रत्येक राज्य में लगभग 1500 हजार मजदूरों को कोरांटीन रखेगी। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य को लॉकडाउन कर दिया है। इससे सबसे ज्यादा परेशानी दिहाड़ी मजदूरों को हो रही है।

इस परेशानी को देखते हुए प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने श्रमिक भरण-पोषण योजना की शुरुआत की है। मंगलवार को इस योजना के तहत 20 लाख से अधिक मजदूरों को एक हजार रुपए की पहली किस्त भेजी गई।और अब सरकार दूसरे राज्यों में फसें 15 लाख मजदूरों को सहायता देने के लिए “UP Pravasi Majdur Sahayata Yojana” लेके आयी है।

यूपी प्रवासी मजदूर कोरोना सहायता योजना

UP Pravasi Majdur Corona Sahayata Yojana –मुख्यमंत्री आदित्यनाथ जी ने गरीब परिवारों के लिए हर प्रकार की सम्भव योजना बना कर जरूरतमंदों तक कोरोना संक्रमण के दौरान मदद पहुँचायी है। इस क्रम को आगे बढ़ाते हुये सरकार ने निर्णय लिया है की वह अपने राज्य के प्रवासी मजदूरों को जल्द ही अपने राज्य में वापिस लाने की कोशिस करेगी। जिससे वह अपने घर पहुँच सके इस के लिए सरकार ने एक महत्त्पूर्ण फैसला लिया है।

कि कोरोना वायरस का संक्रमण अधिक न फैले इसके लिये मजदूरों को पहले 14 दिन तक जिलों की सीमाओं में कोरांटीन में रखा जायेगा जिससे आसानी से पता लगाया जा सकता है, की कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटव तो नहीं है।सरकार ने आदेश देते हुये कहा है की वह सभी लोगों को 15 दिन तक का राशन पानी फ्री में उपलब्ध करायेगी। साथ ही उन्हें आर्थिक सहयता के तौर पर 1हजार रुपए की सहायता भी दी जाएगी।

यूपी प्रवासी मजदूर व्यवस्था व आदेश 

UP Pravasi Majdur system and order – मुख्य सचिव रेणुका कुमार ने शासनादेश जारी करे हुए कहा है कि,उत्तर प्रदेश के जितने भी  प्रवासी मजदूर (लगभग 10 लाख) हैं उन्हें राज्य सरकार जल्द ही उनकी घर वापिस की व्यवस्था करेगी। जिसके लिए प्रत्येक जिले में लगभ 15000 प्रवासी मजदूरों को रखने की व्यवस्था की जाएगी। इन सभी श्रमिकों को यहाँ पर 14 दिन तक Quarantine किया जायेगा। साथ ही उन्हें खाने-पीने की फ्री में उचित व्यवस्था भी की जाएगी। जिले की सीमा पर जहां पर श्रमिकों को क्वारंटीन किया जायेगा वहां पर सभी लोगों पर पूरी तरह से निगरानी रखी जाएगी। ताकि कोई भी व्यक्ति भाग न सके। इसके लिए सरकार सरकार जल्द ही अस्थायी आश्रय स्थल बना रही है।इस सभी प्रिक्रिया को संचालित करने के लिए जिले के अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया जाएगा।

कोरोना वायरस लॉकडाउन कोरांटीन 

Coronavirus, Lockdown, Quarantine –

कोरोना वायरस कोविड-19 (Coronavirus COVID-19)- दुनिया भर में कोरोना वायरस कोविड-19 (Coronavirus COVID-19) का संक्रमण बहुत तेजी से फल रहा है।अभी तक दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में लगभग 30 लाख लोग आ चुकें हैं। जिसमे की भारत में भी लगभग 30 हजार लोग संक्रमित हो चुकें हैं। कोरोना वायरस की अभी तक कोई ऐसी वेकिसीन नहीं मिली है की जिस से कोरोना वायरस ठीक हो जाय। पर फिर भी डाक्टरों की मेहनत जारी है इसी लिए अभी तक दुनिया भर में लगभग अभी तक 15 लाख से ज्यादा लोग कोरोना वायरस को मात देकर हॉस्पिटल से ठीक होकर घर लोट आयें हैं। संक्रमण का खतरा इतना ज्यादा है की दुनिया भर में लगभग 10 लाख लोगों को Covid-19 वायरस की वजह से अपनी जान भी गवानी पड़ी।

लॉकडाउन (Lockdown) – भारत में केंद्र सरकार द्वारा 25 मार्च से 14 अप्रैल तक का 21 दिन पहला लॉकडाउन गया गया था। लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण के मरीजों की संख्या कम नहीं हुयी। और वह तभी तेजी से बढ़ रही थी। इस के लिए मोदी सरकार ने लॉकडाउन की समय सीमा को 19 दिन के लिए यानि 14 अप्रैल से बढ़ा कर 3 मई तक का कर दिया है। Lockdown का मतलब होता है की कोई भी व्यक्ति अपने घर से बहार न निकले। लेकिन लोकडाउन में वे सभी सुविधा उपलब्ध होती हैं, जो आपातकालीन होती हैं। इस स्थिति में  रोजगार, काम धंधे, कम्पनी, फैक्ट्री, सार्वजनिक स्थल आदि सब कुछ लगभग बंद किया जाता है। जिससे संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक न फैले सके।

 [Registration] उत्तर प्रदेश भरण पोषण भत्ता योजना Rs 1,000

कोरांटीन (Quarantine)- कोरोना वायरस के फैलने या किसी अन्य प्रकार का संक्रमण को रोकने के लिए जब व्यक्ति को किसी एक खास  स्थान पर रखा जाता है। जहाँ पर एक स्वस्थ व्यक्ति को मिलने नहीं दिया जाता है, और न ही उस व्यक्ति को किसी से मिलने दिया जाता है। इस प्रकार की प्रक्रिया को हम कोरांटीन (Quarantine) कहते हैं।

यूपी प्रवासी मजदूर सहायता योजना के लाभ और उद्देश्य 

Benefits and objectives of UP Pravasi Mazdoor Sahayata Yojana – उत्तर प्रदेश प्रवासी मजदूर सहायता योजना के लाभ और उद्देश्य इस प्रकार से हैं –

  • घर वापसी – अन्य राज्यों में फसें लगभग 10 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुँचाना।
  • आर्थिक सहयता – प्रवासी मजदूरों का अस्थायी आश्रय स्थल में पंजीकरण करने के बाद 1000 रुपए की आर्थिक सहयता करना, जो प्रवासी मजदूरों के बैंक खाते में आएगी।
  • भोजन व अन्य सुविधा – राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि वह अपने प्रवासी श्रमिकों को 15 दिन तक फ्री में भोजन की व्यवस्था था अन्य प्रकार की सुविधा फ्री में मुहिया करायेगी।
  • आश्रय स्थल – यूपी योगी सरकार अपने प्रत्येक जिले में लगभग 15000 हजार मजदूरों के लिए आश्रय स्थल में रहने की व्यवस्था करेगी।
  • क्वारंटीन – यूपी सरकार अस्थायी आश्रय स्थल में अपने प्रदेश केप्रवासी नागरिकों को 14 दिन तक क्वारंटीन करेगी। ताकि यह पता लग सके कि कौन – कौन व्यक्ति कोरोना पॉजिटव है, या नहीं है।
  • देख-रेख – सभी प्रवासी मजदूरों को पूरी तरह से निग्रहणी में रखा जायेगा। जिससे की वह कहीं भाग न सके।

Click Here

यह भी पढ़ें – यूपी अन्नपूर्णा सप्लाई मित्र पोर्टल होम डिलीवरी- भोजन केंद्र लिस्ट

Govt-Process-Helpline-Team

Leave A Reply

Your email address will not be published.