मेरा पानी-मेरी विरासत योजना: रजिस्ट्रेशन, ऑनलाइन आवेदन – Mera Pani Meri Virasat

मेरा पानी मेरी विरासत योजना | Mera Pani Meri Virasat Online Apply | Haryana Mera Pani Meri Virasat Registration | हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

Haryana Mera Pani Meri Virasat Yojana 2020 :- हरियाणा सरकार ने 6 मई 2020 को “हरियाणा मेरा पानी-मेरी विरासत योजना” शुरू की जो उन किसानों के लिए है जो धान की खेती करते थे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर जी ने “Mera Pani – Meri Virasat Yojana” को लॉन्च करते हुए बताया कि जिस प्रकार हम अपनी जमीन को हम अपने बच्चों के लिए विरासत में छोड़ते हैं। उसी प्रकार हमें जल का संरक्षण भी करना होगा जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुरक्षित रहेगा। प्रधानमंत्री मोदी जी ने जहाँ एक और किसानो की आमदनी को 2022 तक दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। वहीं दूसरी और मुख्यमत्री मनोहर लाल खट्टर 19 ऐसे ब्लॉकों का चयन लिया है। जहाँ पर पानी का जल स्तर 40 मीटर से ज्यादा ऊपर है। और वहां पर धान की रोपाई की जाती है।

इन क्षेत्रों में जल संरक्षित करने के लिए सरकार ने किसानों को धान की खेती जहग कोई और फसल की बुआई के लिए प्रति एकड़ के हिसाब से 7000 रुपए देगी। साथ ही जो भी अन्य फसल की बुआई की जायेगी, उसके लिए सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य देगी किसान को फसल की खरीददारी की जिम्मेदारी भी सरकार की होगी।

Mera-Pani-Meri-Virasat-Yojana-In-Hindi
Mera-Pani-Meri-Virasat-Yojana-In-Hindi

Mera Pani Meri Virasat Yojana Portal

योजना   मेरा पानी-मेरी विरासत योजना
 राज्य   हरियाणा
 लांच की गई   मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी द्वारा
 लोकार्पण तिथि   6 मई 2020
 उदेश्य   जल संरक्षण
 लाभार्थी   राज्य के किसान
 आवेदन प्रक्रिया   ऑनलाइन/ऑफलाइन
विभाग कृषि एवं किसान कल्याण विभाग
आधिकारिक वेबसाइट   Click Here

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह के एक बोरवेल पर 1.50 लाख रुपये खर्च होंगे। इसमें से किसानों को केवल 10 प्रतिशत का भुगतान करना होगा, जबकि शेष 90 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। निर्माण के बाद इन बोरवेलों को रखरखाव के लिए किसानों को सौंप दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि धान के समृद्ध क्षेत्रों में, जल स्तर 81 मीटर तक नीचे चला गया है जो दस साल पहले 40 से 50 मीटर हुआ करता था।

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2020

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा के मुख्यमंत्री मोहर लाल खट्टर जी द्वारा शुरू की गयी। इस योजना का मुख्य उदेश्य है। जल को सरंक्षित और सुरक्षित रखना ताकि आने वाली हमारी पीढ़ी को भी पानी की कमी न हो। मुख्यमंत्री ने खा की इस योजना को अन्य रज्यों को भी शुरू करनी चाहिए। Mera Pani Mere Virasat Scheme हरियाणा के उन क्षेत्रों के लिए है जहाँ पानी का जल स्तर 40 मीटर से गहरा है।हरियाणा के अंतर्गत 19 ऐसे ब्लॉक हैं जहाँ पर पानी का जल स्तर 40 से कम है और वहां पर कृषि की जाती है। लेकिन मात्र 9 ऐसे ब्लॉक हैं। जहाँ पर धान की फसल अभी भी की जाती है। सरकार ने फैसला लिया है जहाँ पर पानी का जल स्तर 35 मीटर से अधिक है। वहां पर पंचायती जमीन पर धान की फसल रोक लगा दी जाएगी।

साथ ही प्रदेश के अन्य क्षेत्र जहां पर कोई किसान धन की बुआई को छोड़ कर अन्य फसल दाल, मक्का,कपास आदि की फसल करता है तो उसे इस जोजना का लाभ दिया जायेगा। इसके लिए आवेदक को पहले से आवेदन करना होगा। ताकि उसे प्रति एकड़ के हिसाब से 7000 हजार रुपए का लाभ दिया जा सके।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के आवश्यक दस्तावेज-

Required Documents for Haryana Mera Pani Meri Virasat Yojana:

आधार कार्ड   मोबाइल नंबर
किसान कार्ड   बैंक पास बुक
पासपोर्ट साइज फोटो     निवास प्रमाण

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना की विशेषता-

Specialty of Haryana Mera Pani Meri Virasat Yojana:

  • हरियाणा राज्य सरकार 6 मई 2020 को मुख्यमंत्री जी द्वारा मेरा पानी मेरी विरासत योजना को शुरू किया गया जिसका मुख्य उद्देश्य जल का संरक्षण करना है।
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ  किसानो को मिलेगा। जो धान की खेती छोड़ कर कोई और फसल की बुआई करेगा।
  • हरियाणा सरकार द्वारा राज्य के अंतर्गत 19 ऐसे ब्लॉकों का चयन किया गया था। जहाँ पर पानी का जल स्तर 40 मीटर से अधिक होने पर भी धान की बुआई जाती थी।
  • पानी का जहाँ 35 मीटर से अधिक होने पर वहां पर सरकार ने पंजायती जमीन पर ढंकी बुआई पर रोक है।
  • योजना का लाभ सीधे पंचायती स्तर पर दिया जाइएगा।
  • जो किसान धान की फसल छोड़कर अन्य की बुआई करता है तो उसे 7000 रूपये प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहित राशि दी जाएगी।
  • हरियाणा सरकार मक्का, अरहर, उड़द, ज्वार, कपास, बाजरा, तिल और ग्रीष्म मूंग या वैसाखी मूंग जैसे सभी फसलें जो कल पानी से भी होती हैं। उन फसलों को करने के प्रति किसानी को प्रोत्साहित कर रही है।
  • मक्का दालें कपास आदि प्रकार की सभी फसलों को लेने की लिए सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य रखेगी।
  • हरियाणा सरकार किसानों को अच्छे बीज और कृषि उपकरणों की व्यवस्था कराएगी।
  • किसान सिंचाई या ड्रिप सिंचाई प्रणाली से करता है तो उसे 80 % अनुदान मिलेगा।

Mera Pani Meri Virasat Online Apply, Registration

Mera Pani Meri Virasat Yojana 2020 online application registration process – हरियाणा प्रदेश के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है तो वह नीचे दिए गए चरणों का कर इस योजना में आवेदन कर सकते हैं।

  • इसके लिए आपको सबसे पहले योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा।  ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें।

MERA PANI MERI VIRASAT YOJANA

  • यहां क्लिक करते ही आपके सामने इसका होम पेज खुल जायेगा। मुख्य पृष्ठ पर आपको “फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करें” पर क्लिक करना होगा। जैसा नीचे दर्शाया गया है।

    Mera-Paani-Meri-Virasa- registration
    Mera-Paani-Meri-Virasa- registration
  • ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको अपना आधार नंबर भरना होगा और फिर “नेक्स्ट” के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • नेक्स्ट पर क्लिक करने के बाद आपको पूछी गयी जानकारी भरनी होगी फिर टोटल लैंड होल्डिंग और क्रॉप डिटेल्स भरनी होगी।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।  इस तरह आपका पंजीकरण पूरा हो जायेगा।
रिचार्ज शाफ्ट ऑनलाइन आवेदन

अब मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत किसान रिचार्ज शाफ्ट के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। जिसके प्रक्रिया नीचे दी गई है।

  • सबसे पहले  Mera Pani Meri Virasat Official Website में जाएं या Click karen 
  • रिचार्ज शाफ्ट के निर्माण के प्रकार का चुनाव करें :- सरकारी सहायता के साथ <<सरकारी सहायता बिना स्वयं द्वारा
  • अपना आधार नंबर दर्ज करें
  • किसान का नाम <<पिता का नाम
  • मोबाइल नंबर
  • जिल्ला <<खंड <<ग्राम
  • रिचार्ज शाफ़्ट वाले खेत का विवरण
  • Crop Name:
  • Muraba Number << Killa Number:
  • सारी जानकारी भरने के पश्चात विकल्प चुने जिनमे :- कुल लागत का 10 % या अधिकतम 10000 रूपये देने में समर्थ हूँ।
    या बनाये गए ढाँचे की मरम्मत व फ़िल्टर मीडिया की देख रेख समर्थ हूँ।
  • अपच कोड डाले।
  • save वाले बटन को दबाएं।
मेरा पानी-मेरी विरासत योजना Helpline Toll Free Number

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर 1800180 2117 है इसमें आप कॉल करके अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं। Click Here

यह भी पढ़ें: Haryana Migrant – हरियाणा प्रवासी श्रमिक पंजीकरण सेवा

Govt-Process-Helpline-Team

1 Comment
  1. neeraj sharma says

    bahut achi jankari share ki aapne,thanks for sharing

Leave A Reply

Your email address will not be published.