[Form PDF] महाराष्ट्र विकलांग/अपंग पेंशन योजना आवेदन करें

Maharashtra Disabled Pension Scheme Apply Online | Viklang/Apang Pension Yojana Form PDF Download | महाराष्ट्र विकलांग पेंशन आवेदन फॉर्म डाउनलोड

Maharashtra-Disabled-Pension-Scheme-In-Hindi
Maharashtra-Disabled-Pension-Scheme-In-Hindi

Maharashtra Disabled Pension Scheme 2020-: नमस्कार दोस्तों, आज हम अपने इस लेख में “महाराष्ट्र विकलांग पेंशन योजना” की जानकारी लेके आएं हैं। महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के विकलांग महिला व पुरुष के लिए Viklang Pension Yojana को शुरू किया हैं। आप सभी लोग जानते हो की विकलांग बच्चों और सभी वर्ग के लोगों के लिए कई प्रकार की योजना चलायी जा रहे हैं। जिससे उनकी स्थिति में सुधार हो और वे पेंशन संबंधी लाभ प्राप्त कर सकें, और अपना जीवन अच्छे से बीता सके। Maharashtra Handicapped Pension Scheme द्वारा भी विकलांग लोगों को पेंशन का पूर्ण लाभ देने के उद्देश्य से राज्य सरकारें भी काम कर रही हैं, जिससे विकलांगों के जीवन में सुधार किया जा सके और उन्हें सक्षम बनाया जा सके।

इसी तरह हम आपको अपने इस लेख में सभी जानकारी देंगे ताकि राज्य के सभी विकलांगजन इस योजना का फ़ायद उठा सके। आप लोग जानते ही हैं की जो पहले की विकलांग महिला या पुरुष को सहायता राशि दी जाती थी वो 600 रु थी, लेकिन अब महाराष्ट्र सरकार द्वार 1,000 रु दी जाएगी। यदि आप Maharashtra Disabled Pension Scheme (Viklang/Apang Pension Yojna) में ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो इसके लिए आप हमारा आर्टिकल अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

महाराष्ट्र विकलांग पेंशन योजना के उद्देश्य

Objectives of Maharashtra Disabled Pension Scheme – महाराष्ट्र विकलांग पेंशन योजना के उद्देश्य निम्न प्रकार से हैं।

  • इस योजना के अंतर्गत अक्षम व्यक्तियों को समाज की मुख्यधारा में शामिल किया जाना।
  • योजना से लाभ प्राप्त कर विकलांग व्यक्ति अपने जीवन की समस्याओं को दूर कर अपने जीवन को आगे बढ़ा सकें।
  • और अपनी योग्यताओं को समाज के सामने ला सकें।
  • दिव्यांग पेंशन योजना में ऐसे विकलांग बच्चे जो शिक्षा से वंचित है उन्हें नि:शुल्क शिक्षा प्रदान करना।
विकलांग पेंशन योजना महाराष्ट्र के लाभ-

Benefits of Maharashtra Disabled Pension Scheme – महाराष्ट्र विकलांग पेंशन के लाभ निम्न प्रकार से हैं।

राज्य में सभी विकलांग लोगों के लिए सामान्य स्कूल और विशेष एनआरआई स्कूल में निम्न प्रकार से छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।

  1. पहली से बारहवीं कक्षा में पढ़ने वाले विकलांग छात्रों के लिए स्कूली शिक्षा की पहली कक्षा और चौथी कक्षा के लिए 50 रूपये,
  2. पांचवी से सातवीं कक्षा के लिए 75 रूपये,
  3. और बाद की कक्षा के लिए 100 रूपये,
  4. तथा मानसिक रूप से मंद छात्रों के लिए विशेष गैर निवासी स्कूलों में 75 रूपये की दर से हर महीने दी जाती है।
  • सभी सरकारी योजनाओ में विकलांग व्यक्ति के लिए सीधी भर्ती के लिए ग्रुप ए, ग्रुप डी पद की नियुक्ति के लिए 45 साल तक की आयु सीमा में छूट दी गई है। जो की अन्य के लिए कम होती हैं:
  • इसके साथ ही विकलांगों के लिए विकलांग रोजगार रैलिया आयोजित की जाती है।
  • 18 से वर्ष 50 आयु के दूरदर्शी विकलांग व्यक्तियों के लिए स्वरोजगार का अधिकार प्रदान किया गया है।
  • सभी विकलांगजनों (दिव्यांगजन) के लिए बैंक के माध्यम से कर्ज लेने पर अनुदान की व्यवस्था की गई है। इसके लिए आवेदक की उम्र से वर्ष 50 वर्ष तक होनी चाहिए।
अपंग पेंशन योजना महाराष्ट्र के लिए पात्रता मानदंड-

Eligibility Criteria for Handicapped Pension Scheme In Maharashtra –  यहाँ विकलांग लोगों की शारीरिक रूप से विकलांग/अपंग पेंशन योजना के लिए पूर्ण पात्रता मानदंड है:

  1. उम्मीदवारों को महाराष्ट्र का निवासी होना चाहिए।
  2. न्यूनतम 80% विकलांगता वाला व्यक्ति विकलांग पेंशन योजना के तहत पात्र है।
  3. एक विकलांग व्यक्ति को 18 से 65 वर्ष की आयु का होना चाहिए।
  4. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विकलांगता पेंशन योजना (IGNDPS) के तहत वह 200 रुपये प्रति माह प्राप्त करने का हकदार है।
  5. राज्य प्रायोजित संजय गांधी निर्धार अन्नधन योजना के तहत उन्हें हर महीने 400 रुपये मिलते हैं।
  6. इसके अलावा, उम्मीदवार को अन्य राज्य सरकार का लाभार्थी नहीं होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र वृद्धावस्था पेंशन योजना ऑनलाइन आवेदन करें

महाराष्ट्र दिव्यांग पेंशन योजना आवेदन/पंजीकरण प्रक्रिया-

Maharashtra Disabled Pension Scheme Application/Registration Process – महाराष्ट्र विकलांग पेंशन योजना में आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें।

  • सबसे पहले आपको इसका आवेदन फॉर्म प्राप्त करना होगा।
  • यह फॉर्म आपको कलेक्टर कार्यालय / तहसीलदार / तलाठी संपर्क कार्यालय से प्राप्त हो जायेगा।
  • या आप नीचे दिए गए लिंक से भी आवेदन फॉर्म को पीडीएफ फॉर्मेट में डाउनलोड कर सकते हैं।

MAHARASHTRA-DISABLED-PENSION-APPLICATION-FORM-PDF

  • यहाँ से फॉर्म Download करने के बाद, आपको इसमें पूछी गयी सभी जानकारी को ध्यान से सही-सही भरनी होंगी।
  • इसके बाद आपको सभी आवश्यक दस्तावेजों को इसमें संलग्न करना होगा।
  • और पूर्णरूप से भरे फॉर्म को संबंधित कार्यलय (कलेक्टर कार्यालय / तहसीलदार / तलाठी संपर्क कार्यालय) में जमा करना होगा।

Click Here

यह भी पढ़े: [लिस्ट] महाराष्ट्र विधवा पेंशन योजना | ऑनलाइन आवेदन फॉर्म

Govt-Process-Helpline-Team

3 Comments
  1. Anonymous says

    Plz confirm about Divyang Scheme
    I have 50% handicapped left leg
    Kolpe popat Balkrishna

  2. Kolpe popat Balkrishna says

    प्लीज कन्फर्म अबाऊट दिव्यांग योजना

    I have 50% handicapped left leg
    I have not got pension 1000 last 6 months

  3. .नमस्कार..‌दोन्ही पायांनी अपंग असलेले बेरोजगार असे माझे पती असून घाटी अॉनलाईन प्रमाणपत्र व युनिक डिसेबिलिटी कार्ड आहे.स्वयंरोजगार नोंदणी आहे.प्रधानमंत्री विमा१२रू.कपात चा _जिवंत अपंगांसाठी एकमेव विमा लाभ रू.दोन लाख त्यांच्या नावे पालिसी तर त्यांना मिळाली पाहिजे.मीही काढलेली आहे.जाईन अकाउंट आहे एसबीआयचे.चार वर्षे पूर्वी नेशनल इन्शुरन्स कंपनी ला कागदपत्रे दिलेली आहेत.
    मी औरंगाबाद जिल्ह्यातील एकमेव अपंग जोडीदार एकल महिला शिक्षिका आहे.पती उपचार साठी वैद्यकीय लाभ मला एकदाच मिळाला. पण कायमचे दोन्ही पायांनी अपंग त्व साठी पतीला हा विमा लाभ मिळावा. औरंगाबाद ला मनपा.नोंद केली.शहरी ,अपंग, मराठा , कर्मचारी नाही.म्हणून कोणते चे भत्ते नाही. साईडव्हील दुचाकी नाही.व्यवसायकर सवलत ते नोकरी तनाही.मलामिळायला हवी.तीही नाही.मतिमंद हा प्रकार २१ जीआर २०१६ यात कुठे येतो.कळले नाही.मतिमंद स्वमग्न कर्णबधीर सेरेब्रल इ.एकत्र प्रमाणपत्र ही लेकरांची आहेत.तसेच टीसीची गरज नसल्याने विशेष शाळेत व इतरत्र ही अशा मुलांची नावे असू शकतात.
    अशा विशेष बालकांच्या आई-वडील दोघा नोकरी लावल्यास लेकरू दोघांचे म्हणून लाभ.तसा अपंग पती साठी एकट्या पत्नीला किंवा जोडीदाराला हवा.”माजी सैनिक अपत्य व कर्मचाऱ्यांचा अपंग जोडीदार/आई-वडील व एकल अल्प भूधारक शेतकरी आहे का” हे कॉलम जिप शिक्षक बदली माहिती त हवे.एक पगार.एक टॅक्स.दोन पगार दोन टॅक्स भरतो.एवढाच फरक आहे.काम सगळे चे करतात.सोयीची सिटी अलाऊन्स वाली शाळेत जिल्हा बदलीने शिक्षक राहिलं पण खाजगी संस्थेतून व एकल मुळे शेवटच्या टोकाला काम करणारे
    शिक्षिकाही दहा वर्षे कोणती शिक्षा भोगत जगतील?हेच शिक्षक तिथे पत्नी ३०किमी अंतराने गेले तर सेवेची अट नसल्याने लगेच अर्ज करतील ना कुटुंब टिकावे म्हणून…
    अपंग पतीचे युनिक डिसेबिलिटी कार्ड नुसार पत्नी नाते पालक तरी बालसंगोपन रजाही मला मिळाली नाही.तीही दोघे नोकरी वाले किंवा विशेष बालकांच्या शिक्षकपालक असलेले यांना मिळाली.
    तीनजि.बाॉण्ड्री शाळेत रजा संपल्या.शासकीय लानियमित पूर्ण वेळ बीएड उपस्थिती पत्र असूनही सहा महिने पेक्षा जास्त रजा म्हणून माझी२८५दिवस बिनपगारी रजा व एक वेतनवाढ ही गेली.आधीच आमची मेरिट तरी शिक्षण सेवक पहिली बॅच.वीस वर्षे पासून .. तेव्हा जात कळली.
    पायी जाताना गाडी ने उडविले.म्हणून पतीअपंग.तो निकाल ही पाच वर्षे पासून नाही.मुळ प्रमाणपत्र मा.कोर्ट निकालाविना देत नाही.
    आता माझे वडील माजी सैनिक.त्यांचा नातू व अपंग वडील असून मुलाला अकरावी त कोणतीच सवलत नाही.तलवारबाजी चे दोन राज्य स्तरीय मेडल पण सीबीएससी ते पहात नाही.हेल्थ केअरचे ९२गुण सोडून इतर लेखी पाच पेपरचे गुण धरले.अपंग एकलचे (घाटीत जन्म व कुटुंब नियोजन शस्त्रक्रिया माझी आहे )
    असे दोन लेकरं तरी एखाद्या शासकीय सवलतीत आयुष्यात एक वेतनवाढ आपरेशन दिनांक वर्षात हवी. ..अबार्शन रजा ही न घेतलेले जुळे सोडून दोन अपत्य वाले यांना हवी.प्रसूती रजा जुळे वाल्यांनी तीन /सहा महिने च एकदाच घेतली असेल तर दुसर्या बाळाची तेवढी रजा अर्जित रजेत जमा व्हावी.
    अपंग बेरोजगार नवरा, आई-वडील अपंगअपत्य सारखे सर्व
    कायद्यात असावे. तांड्यावर एखादा स्थानिक भाषिक शिक्षक असावा.सर्व जातीचे अपंग मुले मुली, दोन अपत्य असलेले( जुळे अपवाद)
    , आई-वडील नसलेले,एकल पालक असलेले मुलं अशांना शिक्षण मोफत च असल्याने मोफत गणवेश हवे.मी जिप प्राशा सातारातांडा ची पहिली प्रभारी मुख्याध्यापिका म्हणून ६९ मुलांना मोफत गणवेशदिले.अपंग वि.व अपंग पालक , आई-वडील नसलेले सहा मुलांना दोन दोन गणवेश पती व माझ्या लेकरांच्या इच्छेने दिले.
    शा.व्य.स.ला अध्यक्ष ला ही दोन अपत्ये अट हवी. अकरा अपत्य असणारे ही पालक आहेत. एकाधिकार शाहीची शक्यता असते. काही वंचित राहून जातात.
    आरटीई एसपीआय पोलीस भरती साठी वय प्रवेश पात्रता समान हवी.तीस सप्टेंबरला सहा वर्षे वय पूर्ण बालक पहिली प्रवेश पात्रता बरोबरच.तयास पंधरा दिवस ऐवजी फक्त एक दिवस एक आक्टोबर पर्यंत सवलत हवी.कदाचित एखादे जुळे/तिळे अपत्य रात्री बारा नंतर जन्मले तर ते पात्र होईल.असे कायदे जिवंत लेकरं आमच्या कडे पहिली वाले व दहावीवालेही येतात तेव्हा लक्षात येतात.किमान प्राथमिक शाळेत गणवेश
    पोषण आहार इ. जात न पाहता मुलामुलींना समान मिळावे.पुढे काही प्रमाणात होणारे अन्याय आजच टळतील.
    मोफत शिक्षण तर शिष्यवृत्ती किंवा इतर योजना.. एका जागेवर दरवर्षी झाडे., शाळेत जागा वाढत नाही.खरंच कोटी रोपटे वाढले तर जंगल तयार होईल.ते नसल्याने च वनचरे आपल्या भेटीस येताहेत. डिजिटल इ.किंवा इतर.. निर्जीव वरील खर्च भावी पिढी नाही सध्या ची पिढी समोर ठेवून
    जिवंत लेकरांसाठी लावला तर फार बरे होईल.पटतील ते मुद्दे स्वीकारावे.चुकल्यास क्षमस्व.

Leave A Reply

Your email address will not be published.